भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमनें हवा में आज कई सवाल उछाले / राकेश पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमनें हवा में आज कई सवाल उछाले
नदियों, पर्वतों, वनालिकों के लिए
हमने अलग अलग भी सवाल पूछे
इन नदियों, पर्वतों और वनों से
हमनें पूछी इनके रुकने, टूटने और उजड़ने की वजहें
पहले नदियों से पूछा उनका अतीत
कहा इतिहास की नदी जीवित कर
दो मेरे सवालों के जबाब
क्यों और किसने उजाड़ा तुम्हें ?
किसने की तुम्हारी हत्याएँ ?
जबाब से पहले भर गयी वो
कहा जब बेध रहे थे मुझे
तब पर्वतों ने मेरी मदद नही की
साथी बारिशों ने मेरा वेग छीन लिया
मेरी हत्याएँ इन्द्र ने करवाई हैं ?
समुद्रों ने भी लील लिया मुझे
भगीरथ पुत्रों ने भी जी भर लूटा हमें
हम नितान्त अकेले थे.
तब कोई खड़ा नही हुआ मेरे साथ
और इस तरह मैं मार दी गयी असमय ही
मैं पर्वत के पास गया और
पूछा यही सवाल
की कैसे कर दी गयी तुम्हारी हत्याएँ ?
तुम कठोर थे
कैसे इतनी जल्दी आत्मसमर्पण कर दिया तुमने ?
इतनी निर्ममता से मारे जाने के बाद भी फटे क्यों नही तुम ?
उसने कहा जब मैं तोड़ा जा रहा था
तो वनों और नदियों ने नही की मेरी कोई मदद
इन्द्र और वरुण ने भी मेरे आत्मा में फिट किये गए डायनामाइट को और सुलगने दिया
इस तरह अकेले ही संघर्ष कर हार गया मैं
मेरे हार और प्रतिकार दोनों के ही मूक गवाह बन खड़े देखते रहे ये लोग

फिर मैनें वनों से पूछा उसके उजड़ने की वजहें
कि क्यों जला कर नेस्तानबूद कर दिए गए तुम
कहा जब मैं जलाया जा रहा था तो
नदियों ने नही की मेरी कोई मदद
पर्वत मुझे उजड़ते देखते हुए भी चुप रहे
वरुण ने अपनी हाहाकारी हँसी से और धधकाई आग
इंद्र ने कोई कसर नही छोड़ी मुझे नष्ट करने में

कोई हाथ भी नही उठे मुझे बुझाने को
बल्कि इन हाथों ने कुल्हाड़ियां थाम मार डाला हमें
और इस तरह मैं भी नष्ट हो गयी

दरअसल ये नष्ट होने की कहानी कोई एक की नही थी
यह अलग हो बिखरने से नष्ट हुए थे सब
सबने इन्द्र की गलती मानी
एक शासक की लापरवाही और अपने कर्तव्य से विमुख होने का संगीन आरोप था इन्द्र पर

हमने इन हत्यायों पर
नदियों से मांगी उनकी गवाही
हमनें पर्वतों से मांगे कोई साक्ष्य
हमनें वनों को कहा प्रमाण दो
हमनें इन्द्र से उसकी संलिप्तता के आरोप पर जवाब मांगे
हमने वरुण के आरोप पर भी स्पष्टिकरण माँगा
ताकि सच्चाई से रूबरू हो हम जान सके
पर्वतों, नदियों और वनों की हत्यायों में संलिप्तता किसकी रही
नदी ने भगीरथ और बुद्ध को अपना गवाह चुना
पर्वतों ने भगवान शिव से गवाही लेने की मंशा दी
और वनों ने कंदराओं में ध्यानमग्न साधूओं और ऋषियों को अपना गवाह कहा

अदालत ने बुद्ध को बुलाया
बुद्ध ने कहा वे ध्यानमग्न थे उन्हें कुछ नही पता
भगीरथ ने गंगा के अवतरण में व्यस्त बताया खुद को
शिव ने कहा वे सती के वियोग में दुखी थे इसलिये वे कुछ नही देख पाए
वरुण ने अपने राजाज्ञा की बात कह मुकर गए अपने आरोप से
इन्द्र ने विपक्षी दानवों का षड्यंत्र बता बदनाम करने का आरोप लगाया
संतो ने मौन साधना की बात कह कुछ कहने से मुकर गए
इस तरह एक निर्दोष जनों की हत्याओं पर कोई आरोप अदालत में तय नही हो पाया
सब अपनी जबाबदेही से बचने का कोई न कोई उपाय निकाल बच गए
शासकों और जिम्मेदार लोग अपनी जिम्मेवारी से मुकर गए
इस तरह से साक्ष्य रहने के वावजूद भी सत्ता के षड्यंत्र में लिप्त लोग बेगुनाहों की हत्याओं से बरी हो गए
अदालतें कुछ भी निर्णय नही कर पायी
क्योंकि सत्ता के नियंता बुद्ध, शिव और इन्द्र के ख़िलाफ़ फैसले लेने की हिम्मत उस न्याय कोर्ट में नही थी
इस तरह एक और फैसला उस जन, जंगल, जमीन के खिलाफ गया
और लोकतंत्र फिर हार गया
जनतंत्र फिर से ख़िलाफ़त में असफल रहा
अदालतों में बैठे तानशाह बाहर खिड़कियों से
नदी, पर्वत-पहाड़, वन के लटके चेहरे पर उपहास का मंत्र बुदबुदा रहे थे !