भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमरा चान लागे लू / भोजपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तू देख जनि चान, हमरा चान लागे लू।
मचा देबू कहियो तूफान लागे लू।

मत करिह सिंगार, मिली ओरहन हजार
तोहके देखे खातिर मेला में हो जायी मार
रूप के तू बड़हन दुकान लागे लू।

केहू आपन दौलत करेला निछावुर
सुध-बुध केहू खो के बनि जाना बाउर
तूर देबू सबकर गुमान लागू लू।

हंसि हंसि के जन आज बिजुरी गिराव
अभिज्ञात जी के जनि पागल बनाव
अंगड़ाई ले लू कमान लागे लू।