भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमरा दुखोॅ के बात जानतै हुनी जे कहीं / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमरा दुखोॅ के बात जानतै हुनी जे कहीं
रात दिन चिन्ता में एक करी मारतै।
हमरा लेली हो दैव हुनकोॅ हरख जैतै
जिनगी में यही दुख रातें-दिनें सालतै।
सब सें छिपाय मोॅन मारी सब सहै छी तेॅ
की ठेकानोॅ कहीं रोग बढ़ी राज खोलतै।
हमरा सें राज राखी बनलोॅ छोॅ राजदार
दुखी मोॅन रहीं-रही यही तान मारतै॥