भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमरा मुन्ना आँगन इमली को झाड़ऽ ते / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हमरा मुन्ना आँगन इमली को झाड़ऽ ते
बड़ी मिठी इमली ओ।।
वा ते बेला दारी चयढ़ी छेला डारऽ ते
बड़ी मीठी इमली ओ।।
ओको लहँगा जो अटक्यों बीच डारऽ ते
बड़ी मीठी इमली ओ।।
ओका लहँगा का हो गया चिंधाचार ते
बड़ी मीठी इमली ओ।।
ओका घर को सैंया गयो रे बन-वास ते
बड़ी मीठी इमली ओ।।
ओका पोर्या पारी हो गया दानो-दान ते
बड़ी मीठी इमली ओ।।