भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

हमरे हु नन्दलाल चली आना ननदिया / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हमरे हुए नन्दलाल, चली आना ननदिया।
चांदी के गहने न लाना ननदिया,
सोने के हमरे रिवाज री। चली...
सूती कपड़े न लाना ननदिया,
रेशम के हमरे रिवाज री। चली...
काठ का पलना न लाना ननदिया,
चन्दन का हमारे रिवाज री। चली...
लड़के बच्चे न लाना ननदिया,
अकेले का हमरे रिवाज री। चली...
रुपये पैसे न मांगो ननदिया,
खाली जाने का रिवाज री। चली...
हमरे हुए नन्दलाल...।