भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमरोॅ अंग जनपद भैया सोना के मड़ैय्या हौ / गंगा प्रसाद राव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमरोॅ अंग जनपद भैया सोना के मड़ैय्या हौ
सौंसे ही देश में हेकरोॅ नाम
यही में बसैवै हम्में सोना के महादेव
सोना के बसैवै चारो धाम हो
पूरब के दिशा में पुर्णियां हांसै छै कोशी मैया
उमड़ै छै मैया बारहो माह हो
देखी-देखी जेकरा हांसै सौंसे ठो सहरसा हो
जेहिरे सहरसा हमरोॅ चाह हो
अंग देश में शोभै मैया दुमका आरोॅ देवघर
जहाँ पर बिराजै भोलेनाथ हो
गोड्डा में खान शोभै कोशिये खगड़िया में
कटिहार शोभै सब्भे साथ हो
शोभै मुंगेरो में मैय्या गंगाधार झलमल
जेहि धार भारत केरोॅ प्राण हो
वही धार शोभै भागलपुर के उत्तरोॅ में हो
जेहि धार कमरथुआ के त्राण हो
यही देश भारी दानी कर्णोॅ के अंग देश हो
भारत के गल्ला में ज्यों हार हो
भेलै जे समुद्र मंथन ओकरोॅ कहानी आजो
हाँसी हाँसी बोलै छै मंदार हो
हेने अंग जनपद में हम्में स्वर्ग उतारवै हो
आँखी में नै रहतै केकरोॅ लोर हो
‘गंगा’ संग संग अंगवासी झूमतै हो
मची जैतै भारत में शोर हो