भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमारी बेचैनी उस की पलकें भिगो गई है / साबिर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमारी बेचैनी उस की पलकें भिगो गई है
ये रात यूँ बन रही है जैसे कि सो गई है

दिए थे काल घटा को हम ने उधार आँसू
किसे कहें अब कि सारी पूँजी डुबो गई है

हम उस की ख़ातिर बचा न पाएँगे उम्र अपनी
फ़ुज़ूल-ख़र्ची की हम को आदत सी हो गई है

वो एक साहिल कि जिस पे तुम ख़ुद को ढूँढते हो
वहीं पे इक शाम मेरे हिस्से की खो गई है

मैं यूँ ही मोहरे बढ़ा रहा हूँ झिझक झिझक कर
ख़बर उसे भी है बाज़ी वो हार तो गई है