भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमारी रूह को बेघर किया तुमने / प्रणव मिश्र 'तेजस'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमारी रूह को बेघर किया तुमने।
मुझे इंसान से पत्थर किया तुमने।

कोई भी अब हमारे दर नहीं आता।
हमारे घर का ये मंजर किया तुमने।

मैं दरिया था मेरी औक़ात इतनी थी।
अबस तन्हा सा इक सागर किया तुमने।

मैं खुद को जा-ब-जा कितना तलाशूंगा।
मुझे जब शहर में दर-दर किया तुमने।