भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमारे दिल में रह कर थक न जाएं / राज़िक़ अंसारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमारे दिल में रह कर थक न जाएं
तुम्हारे ग़म यहाँ पर थक न जाएं

हमें तो ज़ख़्म खाने की है आदत
चला के लोग पत्थर थक न जाएं

हमारी दास्तां पर रोते रोते
तुम्हारे दीदा ए तर थक न जाएं

निकाला है दिलों ने काम इतना
कहीं दस्ते रफ़ूगर थक न जाएं

चरागों में ग़ज़ब का हौसला है
हवा ! तेरे ये लश्कर थक न जाएं