भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमीं मुकुट हैं / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हम हैं नन्हे वीर सिपाही
भारत देश विशाल के,
हमीं मुकुट हैं मणियों वाले
इसके उज्ज्वल भाल के!

छोटा मत समझो हमको
हम उजियाले के दीप हैं,
हर मुश्किल को झेला हमने
नन्ही हँसी उछाल के!

पर्वत, दरिया, तूफानों के
बीच पला अपना साहस,
नहीं कभी घर छिपकर बैठे
बाधाओं को टाल के!

मोती-माणिक से गूँथेंगे
हम जयमाला देश की,
चम-चम मोती ले आएँगे
सारा सिंधु खंगाल के!

लो, सब कुछ कुर्बान किया
आदर्शों की लीक पर,
ऊँची मर्यादा भारत की
रखनी हमें सँभाल के!