भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हमेशा माँगते रहना मेरी आदत पुरानी है / बेगम रज़िया हलीम जंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हमेशा माँगते रहना मेरी आदत पुरानी है
हमेशा ही अता करना ये तेरी मेहर-बानी है

मुकम्मल है तेरी यकताई इस में शक नहीं कोई
न कोई तेरे जैसा है न कोई तेरा सानी है

ये नज़्म-ए-काएनात एहसास ये हम को कराता है
यहाँ हर इक नज़ारा तेरे होने की निशानी है

गुनाहों पर मेरे ये तेरी रहमत का करिश्मा है
ज़मीं पर सब्ज़ हैं जंगल न दरया है न पानी है

मेरे आमाल तो ऐसे नहीं है ऐ मेरे मौला
बना दे तू मुझे मोमिन तो तेरी मेहर-बानी है

गुनाहों पर गुनह करती है लेकिन बख़्श दे इस को
ख़ुदाया उम्मत-ए-महबूब की ये इक दिवानी है