भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम अंधेरों को दूर करते हैं / देवल आशीष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हम अंधेरों को दूर करते हैं
अपनी ग़ज़लों से नूर करते हैं

हो गए आप कितना पत्थर-दिल
आईना चूर-चूर करते हैं

ग़ैर तो ग़ैर हैं, करें न करें
चोट अपने ज़रूर करते हैं

सब तो शामिल हैं उनकी महफ़िल में
हम भला क्या क़ुसूर करते हैं

आएगी कब यहाँ वो ख़ुशहाली
बात जिसकी हुज़ूर करते हैं