भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम और तुम / राम लखारा ‘विपुल‘

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हम हतभागी
उस पीपल से जिसका जीवन वन में छूटा।
हम चिंकारे
उस मरूथल के जिसमें छलका दर्शन झूठा।
हम दुखियारे
पांव सदी के जिसमें छाले पड़े हुए हैं।
हम दरवाजे
उस मंदिर के जिस पर ताले जड़े हुए हैं।

और तुम .............

तुम होली का
रंग गुलाबी हर कपोल की मनोकामना।
तुम शिव शंकर
कैलाशी की सिद्धिदायिनी पूर्ण साधना।
तुम थे जिसके
आगे सारे बिम्ब जगत के हार गए हैं।
तुम थे जिसकों
गाकर मेरे गीत स्वर्ग के द्वार गए हैं।