भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम कर भी क्या सकते हैं / नील कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भोर के फलक पर रात का
गर्भपात होने के बाद
जब लुढ़कने लगे सूरज
किसी हत्यारे समय में
हम कर भी क्या सकते हैं ?

पाँच सौ पैंतालिस कुर्सियों वाले
उस गोलघर में
जब सवा सौ करोड़ लोगों के नुमाइंदे
जोकर और भाँड़ बन गए हों
हम कर भी क्या कर सकते हैं ?

नीली आँखों और गुलाबी सपनों वाली
लड़कियाँ व्यस्त हों
जब अपने-अपने प्रेमी फाँसने में
जनसंपर्क में दक्ष अपनी माँओं के साथ
हम कर भी क्या सकते हैं ?

आस्तीनों में पाले हुए साँप
जब उतारने लगें ज़हर
हमारी ही नीली नसों में
और लहू के लाल रंग पर हो ख़तरा
हम कर भी क्या सकते हैं ?

बेहतरीन कविताएँ भी घुटने टेक
जब पराजित-सी खड़ी हों
और नज़रों के बुझते अलाव में
न भभके कोई एक मद्धम चिंगारी
हम कर भी क्या सकते हैं ?

सचमुच हम कर भी क्या कर सकते हैं
सिवाय इसके कि लिखें
कुछ और बेहतर कविताएँ
इस कठिन और बंजर होते समय में ?