भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम घर घुरि रहल छी / नारायणजी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
हम घर घुरि रहल छी
घरसँ जएबा बेर
छुटैत जा रहल छल
एकटा कवच
कवचमे सुरक्षित
पाछू छुटैत जा रहल छल
अपन हँसैत एकटा संसार

हम घर घुरि रहल छी
घर घुमैत
छूटि नहि रहल अछि
मीलक पाथर
किछुओटा
आबि रहल अछि
अपन धरती
अपन स्मृति आ उत्ताप
आगू अबि रहल अछि
आकाशक परिचित विस्तार