भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम तुमसे पूछे रानी रुकमणि / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हम तुमसे पूछें, ए रानी रुकमणि।
कृष्ण वर कैसे पायें, मोरे लाल। हम...
चार महीना तो घुमड़ जल बरसो,
हम उरिया तरें ठांड़े मोरे लाल। हम...
चार महीना के जाड़े परत हैं,
हमने गंगा नहाई मोरे लाल। हम...
चार महीना की गरमी पड़त है।
पंचवटी तप कीन्हें मोरे लाल। हम...
इतने तप हम किये हैं माया,
जब कृष्ण वर पाये मोरे लाल। हम...