भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम वीर बने / सभामोहन अवधिया 'स्वर्ण सहोदर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हम वीर बनें, सरदार बनें,
हम साहस के अवतार बनें।
तैरें निज उठी उमंगो पर,
सागर की तीव्र तरंगों पर।
अपने दम पर, अपने बल पर,
चाहें तो चढ़ें हिमालय पर।
हम खुद अपने आधार बनें,
उन्नति के जिम्मेदार बनें।
कठिनाई से रण ठना रहे,
आफत का कुहरा घना रहे।
पर सदा हौसला बना रहे,
सीना आगे को तना रहे।
हम प्रण के पालनहार बनें,
अपनी धुन के रखवार बनें।
निज जन्म भूमि का क्लेश हरें,
जैसे हो, सुखी स्वदेश करें।
जननी पर नित बलिहार रहें,
मर मिटने को तैयार रहें।
हम माँ के राजकुमार बनें,
जननी के उर के हार बनें।