भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम हैं ख़ुशबू / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब कभी हम अँधेरों के घर जाएँगे ।
उनका आँचल उजालों से भर आएँगे ।

अपनी आँखों में पाले हैं हम बिजलियाँ
हर तरफ़ खोल कर प्यार की खिड़कियाँ
उड़ते जाते हैं हम जिस तरह तितलिया
देखना ये गगन घूम कर आएँगे ।

है हमारी हँसी ख़ूबसूरत बड़ी
है हमारी हँसी मोतियों से जड़ी,
है हमारी हँसी जैसे एक फुलझड़ी,
हम हँसेंगे जहाँ मोती झर जाएँगे ।

कोई चंदा कहे कोई तारा कहे,
कोई लल्ला तो कोई दुलारा कहे
और कोई हमें फूल प्यारा कहे
हम हैं ख़ुशबू हवा में बिखर जाएँगे।