भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हम / राधावल्लभ त्रिपाठी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आज्ञापालन में नष्ट जिनका सारा वैभव
हम नहीं वे किंकर,

जो नाचते रहें निर्रथक तुम्हारे आगे
हम नहीं वे किन्नर,

जो कूदें तुम्हारा जी बहलाने को
हम नहीं वे वानर,

जो जीते हैं अपने मान से
राजन् ! हम हैं वे नर ।