भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

हरियर पट केरा जाजिम झारी बिछावहु हे / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हरियर पट[1] केरा[2] जाजिम झारी बिछावहु हे।
आयल कुल-परिवार, हरदी चढ़ावहु हे॥1॥
हरदी चढ़ावथी[3] दुलरइता दादा, सँघे[4] दुलरइतो दादी हे।
ताहि पाछे[5] कुल परिवार, से हरदी चढ़ावथी हे॥2॥

शब्दार्थ
  1. हरे वस्त्र
  2. का
  3. चढ़ाते हैं
  4. साथ में
  5. पश्चात