भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

हरियर हरियर मोर मड़वा में दुलरू वो / छत्तीसगढ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हरियर हरियर मोर मड़वा में दुलरू वो
काँचा तिली के तेल

कोने तोर लानिथय मोर हरदी सुपारी वो
कांचा तिली के तेल

ददा तोर लानिथय मोर हरदी सुपारी वो
दाई आनय तिली के तेल

कोन चढ़ाथय तोर तन भर हरदी वो
कोन देवय अंचरा के छाँव

फूफू चढ़ाथय तोर तन भर हरदी वो
दाई देवय अँचरा के छाँव

राम-लखन के मोर तेल चढ़त थे
बाजा के सुनव तुमन तान