भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हरी (हिरवी) हरी चोच को, हरो हरो मुरगा / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हरी (हिरवी) हरी चोच को, हरो हरो मुरगा
पानी पेनऽ (पिवन) खऽ नहीं नरबदा।।
बसन खऽ रामटेक जाय ते
रहियो साजन मंदो बारो रे
बाट-बाट रे कि बोयो चना, अड़बाट रे कि बोई मसूर।