भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हरे रामा लागे सावन के महीना / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हरे रामा लागे सावन के महीना
के झूला डारो रे हारी।
रिमझिम रिमझिम बरसत मेघा रामा,
भीज गई सब देह कि
भीजी मोरी साड़ी रे हारी। हरे...
रेशम डोर चन्दन के पलना रामा,
झूलें राधा कृष्ण कदम की डारी रे हारी। हरे...
दादुर मोर पपीहा बोले रामा,
घाट-घाट मोहन की मुरलिया बाजे, प्यारी रे हारी। हरे...
हरे रामा लागे सावन के महीना...