भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हर इक क़यास हक़ीक़त से दूर-तर निकला / 'फ़ज़ा' इब्न-ए-फ़ैज़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर इक क़यास हक़ीक़त से दूर-तर निकला
किताब का न कोई दर्स मोअतबर निकला

नफ़स तमाम हुआ दास्तान ख़त्म हुई
जो था तवील वही हर्फ़ मुख़्तसर निकला

जो गर्द साथ न उड़ती सफ़र न यूँ कटता
ग़ुबार-ए-राह-गुज़र मौज-ए-बाल-ओ-पर निकला

मुझे भी कुछ नए तीशे सँभालने ही पड़े
पुराने ख़ोल को जब वो भी तोड़ कर निकला

फ़ज़ा कुशादा नहीं क़त्ल-गाह की ये कहाँ
मेरे लहू का परिंदा उड़ान पर निकला

वो आदमी के जो महमिल था आफ़ताबों का
ब-क़द्र यक दो कफ़-ए-ख़ाक-रह-गुज़र निकला

ये रात जिस के लिए मैं ने जाग कर काटी
मिला वो शख़्स तो ख़्वाबों का हम-सफ़र निकला

उढ़ा दी चादर-ए-इस्मत उसे ख़यालों ने
हर एक लफ़्ज़ ज़बाँ से बरहना सर निकला

‘फज़ा’ तुम उलझे रहे फ़िक्र ओ फ़लसफ़ें में यहाँ
ब-नाम-ए-इश्क़ वहाँ क़ुरअ-ए-हुनर निकला