भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हर की पौड़ी से (3) / संजय अलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


पानी रुकता नहीं पसीना भी घुल रहा है
बू कहीं नहीं
पुलिस की टुकड़ी नहीं कहीं

प्रेत नहीं घुमा रहा बाण
हिलती नहीं झोपड़ी
पूड़ी तब भी तली जा रही
चील उड़ रही है

आँगन अब नहीं है
पुल है, घाट है, भीड़ है, बीड़ी है


हिरनी आग से भयभीत नहीं है
आरती, प्रज्जवलन शीर्ष पर है