भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हर कोई कह रहा है दीवाना मुझे / हस्तीमल 'हस्ती'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर कोई कह रहा है दीवाना मुझे
देर से समझेगा ये ज़माना मुझे

सर कटा कर भी सच से न बाज आऊँगा
चाहे जिस वक़्तन भी आज़माना मुझे

अपने पथराव से ख़ुद वो घायल हुआ
जिस किसी ने बनाया निशाना मुझे

जिसकी ख़ुशबू बढ़ाती हो आवारगी
वो ही मौसम लगे है सुहाना मुझे

नेमते इस तरह बाँटना हे ख़ुदा !
सबको दौलत मिले दोस्ताना मुझे