भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हर को अॼु इन ई राइ जो आहे / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर को अॼु इन ई राइ जो आहे।
हर सुठी ॻाल्हि हादसो आहे॥

हर मकाँ हिति वॾीअ इमारत जो।
कंहिं न कंहिं धन्धे जो अॾो आहे॥

हिक ई घर जे तमाम भातियुनि में।
तइ न थींदड़ु मुफ़ासिलो आहे॥

हिन खे कोहनि ते भी थी सुणिक पवे।
चुल्हि ते नानीअ रखियो कुनो आहे॥

वॾे उहदे ते रसन्दो सो हिक ॾींहुं।
जो चईं थो ॿिचापिड़ो आहे॥

का त कुर्सी वठी ॾियो हिन खे।
पंध ॾाढा करे थको आहे॥

सभु चई ‘आयो लालु’ बिहिजी विया।
इति अची बीठो क़ाफ़िलो आहे॥