भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हर चीज़ से मावरा ख़ुदा है / 'रसा' चुग़ताई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर चीज़ से मावरा ख़ुदा है
दुनिया का अजीब सिलसिला है

क्या आए नज़र कि रास्तों में
सदियों का ग़ुबार उड़ रहा है

जितनी कि क़रीब-तर है दुनिया
उतना ही तवील फ़ासला है

अल्फ़ाज़ में बंद हैं मआनी
उनवान-ए-किताब-ए-दिल खुला है

काँटों में गुलाब खिल रहे हैं
ज़ेहनों में अलवा जल रहा है