भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हर चोट पे पूछे है बता याद रहेगी / कलीम आजिज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर चोट पे पूछे है बता याद रहेगी
हम को ये ज़माने की अदा याद रहेगी

दिन रात के आँसू सहर ओ शाम की आहें
इस बाग की ये आब ओ हवा याद रहेगी

किस धूम से बढ़ती हुई पहुँची है कहाँ तक
दुनिया को तेरी जुल्फ-ए-रसा याद रहेगी

करते रहेंगे तुम से मोहब्बत भी वफा भी
गो तुम को मोहब्बत न वफा याद रहेगी

किस बात का तू कौल ओ कसम ले है बरहमन
हर बात बुतों की ब-ख़ुदा याद रहेगी

चलतें गए हम फूल को बनाते गए छाले
सहरा को मेरी लग्ज़िश-ए-पा याद रहेगी

जिस बज़्म में तुम जाओगे उस बज़्म को ‘अज़िज’
ये गुफ्तुगू-ए-बे-सर-ओ-पा याद रहेगी