भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हर सम्त लहू रंग घटा छाई सी क्यूँ है / फ़ुज़ैल जाफ़री

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर सम्त लहू रंग घटा छाई सी क्यूँ है
दुनिया मेरी आँखों में सिमट आई सी क्यूँ है

क्या मिस्ल-ए-चराग़-ए-शब-ए-आख़िर है जवानी
शिर्यानी में इक ताज़ा तवानाई सी क्यूँ है

दर आई है क्यूँ कमरे में दरियाओं की ख़ुश्बू
टूटी हुई दीवारों पे ललचाई सी क्यूँ हैं

मैं और मेरी ज़ात अगर एक ही शय हैं
फिर बरसों से दोनों में सफ़-आराई सी क्यूँ है