भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हर सितारा बुझा बुझा सा है / सुभाष पाठक 'ज़िया'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर सितारा बुझा बुझा सा है
दिल हमारा बुझा बुझा सा है

तेरी नज़रें तो ख़ूब हैं लेकिन
ये नज़ारा बुझा बुझा सा है

जल गया है किसी का घर शायद
गाँव सारा बुझा बुझा सा है

जैसे तैसे तो लकड़ियाँ सूखीं
अब शरारा बुझा बुझा सा है

जीत जाऊँ तो खिल उठे चेहरा
जब से हारा बुझा बुझा सा है

ढक लिया अब्र ने 'ज़िया' शायद
चाँद प्यारा बुझा बुझा सा है