भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हवा में कीलें-2 / श्याम बिहारी श्यामल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर हत्या के बाद
मैंने दी है दस्तक
हर लूट के वक़्त
लगाई है ज़ोर-ज़ोर से हाँक
हर बलात्कार को देखकर
मैं चीख़ा हूँ

मगर
बेकार
सब बेकार
कोई नहीं सुनता अब
किसी की दस्तक
कोई हाँक
या चीख़

मैंने जब-जब खटखटाया है
ऊँचा दरवाज़ा
मेरी पीठ पर
चला दिया गया है हल
और लहलहाने लगी है
बर्बादी की फ़सल
मेरी कनपटी पर भिड़ गया है तमंचा
और यह सीख दी गई है
कि मैं मुँह न खोला करूँ

मैं जाऊँगा बस्ती-बस्ती
मैं गाँव-गाँव घूमूँगा
मैं दरख़्त-दरख़्त चढ़ूँगा
और चिल्लाऊँगा
ज़ोरों से
कि अब कुछ करना होगा