भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हवा से इस्तिफ़ादा कर लिया है / सालिम सलीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हवा से इस्तिफ़ादा कर लिया है
चराग़ों के लिबादा कर लिया है।

बहुत जीने की ख़्वाहिश हो रही थी
सो मरने का इरादा कर लिया है।

मैं घटता जा रहा हूँ अपने अंदर
तुम्हें इतना ज़ियादा कर लिया है।

जो कंधों पर उठाए फिर रहा था
वो ख़ेमा ईस्तादा कर लिया है।

न था कुछ भी मिरी पेचीदगी में
तो मैं ने ख़ुद को सादा कर लिया है।