भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हवा / लाला जगदलपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

करती हवा बहुत शैतानी!
दूर-दूर तक दौड़ लगाती,
इस पर उस पर धूल उड़ाती।
यहाँ-वहाँ के कचरे लाकर,
बिखरा जाती घर-आँगन भर।
बार-बार करती मनमानी,
करती हवा बहुत शैतानी!

चाहे जिसके बाल हिलाती,
कपड़े तितर-बितर कर जाती।
भड़का देती तेज-आग को,
बुझा-बुझा देती चिराग को।
अनदेखी, जानी-पहचानी,
करती हवा बहुत शैतानी!

पर जब-जब वह डाल हिलाती,
और टपाटप फल टपकाती।
हमें सहेली-सी लगती है,
एक पहेली-सी लगती है।
सिर-आँखों पर यह नादानी,
करती हवा बहुत शैतानी!