भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हसज कूजा-ग़र (3) / नून मीम राशिद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जहाँ-ज़ाद कैसे हज़ारों बरस बाद
इक शहर-ए-मदफ़ून की हर गली में
मेरे जाम ओ मीना ओ गुल-दाँ के रेज़े मिले हैं
कि जैसे वो इस शहर-ए-बर्बाद का हाफ़िजा हों !
हसन नाम का इक जवाँ कूज़ा-गर इक नए शहर में
अपने कूज़े बनाता हुआ इश्‍क करता हुआ
अपने माज़ी के तारों में हम से पिरोया गया है
हमीं में कि जैसे हमीं हों समोया गया है
कि हम तुम वो बारिश के क़तरे थे जो रात भर से
हज़ारों बरस रेंगती रात भर
इक दरीचे के शीशों पे गिरते हुए साँप लहरें
बनाते रहे हैं
और अब इस जगह वक़्त की सुब्ह होने से पहले
ये हम और ये नौ-जवाँ कूज़ा-गर
एक रूया मैं फिर से पिरोए गए हैं !
जहाँ-ज़ाद
ये कैसा कोहना-परस्तों का अम्बोह
कूज़ों की लाशों में उतरा है
देखो !
ये वो लोग है जिन की आँखें
कभी जाम ओ मीना की लिम तक न पहूँचीं
यही आज इस रंग रो रोग़न की मख़्लूक-ए-बे-जाँ
को फिर से उलटने पलटने लगे हैं
ये उन के तले ग़म की चिंगारियाँ पा सकेंगे
जो तारीख़ को खा गई थीं ?
वो तूफ़ान वो आँधियाँ पा सकेंगे
जो हर चीख को खा गई थीं
उन्हें क्या ख़बर किस धनक से मेरे रंग आए
मेरे और इस नौ-जवाँ कूज़ा-गर के ?
उन्हें क्या ख़बर कौन से हुस्न से
कौन सी ज़ात से कि ख़द्द-ओ-खाल से
मैंने कूज़ों के चेहरे उतारे
ये सब लोग अपने असीरों में हैं
ज़मान जहाँ-ज़ाद अफ्सूँ-ज़दा बुर्ज है
और ये लोग उस के असीरों में हैं
जवाँ कूज़ा-गर हंस रहा है
ये मासूम वहशी कि अपने ही क़ामत से ज़ोलीदा-दामन
हैं जूया किसी अज़्मत-ए-ना-रसा के
उन्हें क्या ख़बर कैसा आसेब-ए-मुबरम मेरे ग़ार सीने पे था
जिस ने मुझ से और उस कूज़ा-गर से कहा
ऐ हसन कूज़ा-गर जाग
दर्द-ए-रिसालत को रोज़-ए-बशारत तेरे जाम ओ मीना
की तिश्‍ना-लबी तक पहुँचने लगा है !
यही वो निदा के पीछे हसन नाम का
ये जवाँ कूज़ा-गर भी
प्यापे रवाँ है ज़माँ से ज़माँ तक
ख़िजाँ से ख़िजाँ तक

जहाँ-ज़ाद मैंने हसन कूज़ा-गर ने
बयाबाँ बयाबाँ ये दर्द-ए-रिसाल सहा है
हज़ारों बरस बाद ये लोग
रेज़ों को चुनते हुए
जान सकतै हैं कैसे
कि मेरे गिल ओ ख़ाक के रंग-ओ-रोगन
तेरे नाज़ुक आज़ा के रंगो से मिल कर
अबद की सदा बन गए थे !
मैं अपने मसामों से हर पौर से
तेरी बाँहों की पहनाइयाँ
जज़्ब करता रहा था
कि हर वाने वाले की आँखों के माबद पे जा कर चढ़ाऊँ
से रेज़ों की तहज़ीब पा ले तो पा लें
हसन कूज़ा-गर को कहाँ ला सकेंगे ?
ये उस के पासीने के क़तरे कहाँ किन सकेंगे ?
ये फ़न की तजल्ली का साया कहाँ पा सकेंगे ?
जो बढ़ता गया है ज़माँ से जमाँ तक
ख़िजाँ से ख़िजाँ तक
जो हर नौ-जवाँ कूज़ा-गर की नई जात में
और बढ़ता चला जा रहा है !
वो फ़न की तजल्ली का साया के जिस की बदौलत
हमा इश्‍क़ हैं हम
हमा कूज़ा-गर हम
हमा तन ख़बर हम
ख़ुदा की तरह अपने फ़न के ख़ुदा सर-ब-सर हम !
आरज़ूएँ कभी पायाब तो सर्याब कभी
तैरने लगते हैं बेहोशी की आँखों में कई चेहरे
जो देखे भी न हों
कभी देखे हों किसी ने तो सुराग़ उन का
कहाँ से पाए ?
किस से ईफ़ा हुए अंदोह के आदाब कभी
आरज़ुएँ कभी पायाब तो सर्याब कभी

ये कूज़ों के लाशें जो इन के लिए हैं
किसी दातान-ए-फ़ना के वग़ैरा वग़ैरा
हमारी अज़ाँ हैं हमारी तलब का निशां हैं
ये अपने सुकूत-ए-अज़ल में भी ये कह रहे हैं
वो आँखे हमीं है जो अंदर खुली हैं
तुम्हें देखती हैं हर इक दर्द को भांपती हैं
हर इक हुस्न के राज़ को जानती है
कि हम एक सुनसान हुजरे की उस रात की आरज़ू हैं
जहाँ एक चेहरा दरख़्तों की शाखें के मानिंद
इक और चेहर पे झुक कर हर इंसान के सीने में
इक बर्ग-ए-गुल रख गया था
उसी शब का दुज़-दीदा बोसा हमीं हैं