भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हसरत-ए-इंतिज़ार-ए-यार न पूछ / नून मीम राशिद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हसरत-ए-इंतिज़ार-ए-यार न पूछ
है वो शिद्दत-ए-इंतिज़ार न पूछ

रंग-ए-गुलशन दम-ए-बहार न पूछ
वहशत-ए-क़ल्ब-ए-बे-क़रार न पूछ

सदमा-ए-अंदलीब-ए-ज़ार न पूछ
तल्ख़ अंजामी-ए-बहार न पूछ

ग़ैर पर लुत्फ़ मैं रहीन-ए-सितम
मुझ से आईना-ए-बज़्म-ए-यार न पूछ

दे दिया दर्द मुझ को दिल के एवज़
हाए लुत्फ़-ए-सितम-शिआर न पूछ

फिर हुई याद-ए-मय-कशी ताज़ा
मस्ती-ए-अब्र-ए-नौ-बहार न पूछ

मुझ को धोका है तार-ए-बिस्तर का
ना-तवानी-ए-जिस्म-ए-यार न पूछ

मैं हूँ ना-आश्‍ना-ए-वस्ल हनोज़
मुझ से कैफ़-ए-विसाल-ए-यार न पूछ