भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हसीं है शहर तो उजलत में क्यूँ गुज़र जाएँ / दिल अय्यूबी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हसीं है शहर तो उजलत में क्यूँ गुज़र जाएँ
जुनून-ए-शौक़ उसे भी निहाल कर जाएँ

ये और बात कि हम को नज़र नहीं आए
मगर वो साथ ही रहता है हम जिधर जाएँ

हयात-ए-इश्क़ का मक़्सूद बन गई आख़िर
ये आरज़ू कि तिरा नाम ले के मर जाएँ

ये राह-ए-इश्क़ है आख़िर कोई मज़ाक़ नहीं
सऊबतों से जो घबरा गए हों धर जाएँ

पहुँच के मंज़िल-ए-मक़्सूद पर ही दम लेंगे
कि चल पड़े हैं तो किस मुँह से लौट कर जाएँ