भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हात रे भाई रे! / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हात रे भाई रे!
नाना की मांय पाणी खऽ गई, घर मऽ कुतरा कोंडी गई।
कुतरा भूकसे होलई पर, नानों म्हारो सोवसे झोलई पर।
आवों चिड़ीबाई दौड़ करी, नानो म्हारो सोवसे सौड़ करी।
आवो चिड़ीबाई परात मऽ, नानो म्हारेा जासे बरात मंऽ।
आवो चिड़ीबाई करूँ थारो याव,
कथील को मूंदड़ो नऽ जुरूंग को हार
बाजरा को खीचड़ो नऽ मसूर की दाल,
आवों चिड़ीबाई करूँ थारों याव।
हात रे भाई रे!