भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाथी और चूहा / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दो चूहों को मिले सड़क पर,
काले हाथी दादा|
उन्हें देख बोला इक चूहा
क्या है यार इरादा?

कई दिनों से हाथ सुस्त हैं,
कसरत ना हो पाई|
क्यों ना हम हाथी दादा की,
कर दें आज धुनाई|

बोला तभी दूसरा चूहा,
उचित नहीं यह भाई|
किसी अकेले से दो मिलकर,
कर दे हाथापाई

दुनियाँ वालों को भी यह सब,
होगा नहीं गवारा|
लोग कहेंगे दो सेठों ने,
एक गरीब को मारा|