भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाथी दादा की होली / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जंगल में भी मस्ती लाया
होली का त्योहार,
हाथी दादा लेकर आए
थोड़ा रंग उधार।

रंग घोल पानी में बोले-
वाह, हुई यह बात,
पिचकारी की जगह सूँड़ तो
अपनी है सौगात!

भरी बालटी लिए झूमते
जंगल आए घूम,
जिस-जिस पर बौछार पड़ी
वह उठा खुशी से झूम!

झूम-झूमकर सबने ऐसे
प्यारे गाने गाए,
दादा बोले-ऐसी होली
तो हर दिन ही आए!