भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाथों का उठना / ओम प्रभाकर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हाथों का उठना
कँपना
गिर जाना
कितने दिन चलेगा ?

कितने दिन और सहेंगे
वे कब चीत्‍कार करेंगे
कब तक होंगे वे तैयार
कब तक हुँकार भरेंगे ?

क़दमों का उठते-
उठते रूक जाना
कितने दिन और चलेगा ?

दरवाज़ों को खुलना है
गिरना है दीवारों को
लेकिन
कितने दिन तक और
चलना है अतिचारों को ?

आँखों का उठना
झुकना
मुँद जाना
कितने दिन और चलेगा ?