भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाथ पर हाथ रख के क्यों बैठूँ / विकास शर्मा 'राज़'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हाथ पर हाथ रख के क्यों बैठूँ
धूप आएगी कोई साया बुनूँ

पाँव ज़ंजीर चाहते हैं अब
जितनी जल्दी हो अपने घर लौटूँ

हाँ, ये रुत साज़गार है मुझको
मैं इसी रुत में ख़ुश्क हो जाऊँ

एक नश्शा है ये उदासी भी
और मैं इस नशे का आदी हूँ

उसने शादी का कार्ड भेजा है
सोचता हूँ ये इम्तहाँ दे दूँ