भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाथ में पत्थर उठाया आपने / विकास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हाथ में पत्थर उठाया आपने
आइना हमको दिखाया आपने

लोग मौसम से बहुत अंजान थे
शोर बारिश का मचया आपने

धूप में उतरकर आई चांदनी
जब कभी भी मुस्कराया आपने

लोग दीवारें उठाने लग गए
फ़ासले का गुल खिलाया आपने

अपनी तन्हाई से फिर आना पड़ा
गीत कोई गुनगुनाया आपने