भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाथ में मेहंदी मांग सिन्दूरवा / भोजपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हाथ में मेंहदी मांग सिंदुरवा

बर्बाद कजरवा हो गइले

बाहरे बलम बिना नींद ना आवे

बाहरे बलम बिना नींद ना आवे

उलझन में सवेरवा हो गइले


बिजुरी चमके देवा गर्जे घनघोर बदरवा हो गइले

पापी पपीहा बोलियाँ बोले पापी पपीहा बोलियाँ बोले

दिल धड़के सुवेरवा हो गइले

बाहरे बलम बिन नींद न आवे

उलझन में सुवेरवा हो गइले

आ...................................


अरे पहिले पहिले जब अइलीं गवनवा

सासू से झगड़ा हो गइले

बाकें बलम पर...अहा अहा

बांके बलम परदेसवा विराजें

उलझन में सुवेरवा हो गइले


हाथ में मेंहदी मांग सिंदुरवा

बर्बाद कजरवा हो गइले