भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाथ में लाठी पकड़ कर इश्क़ फ़रमाएँगे क्या / सय्यद फहीमुद्दीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हाथ में लाठी पकड़ कर इश्क़ फ़रमाएँगे क्या
बाबा-जी कुछ और दिन भी आप जी पाएँगे क्या

डॉक्टर की फ़ीस का सुन कर मरीज़-ए-मोहतरम
ऑपरेशन से ही पहले कूच फ़रमाएँगे क्या

क़ीमतें दालों की भी बढ़ जाएँगी सोचा न था
लोग धक्कों के सिवा अब और कुछ खाएँगे क्या

रस्म-ओ-रह गो अफ़सरों से इस क़दर अच्छी नहीं
हम अगर मक्खन लगाएँ वो न लगवाएँगे क्या