भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाथ में लेकर खड़ा है बर्फ़ की वो सिल्लियाँ / ज्ञान प्रकाश विवेक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हाथ में लेकर खड़ा है बर्फ़ की वो सिल्लियाँ
धूप की बस्ती में उसकी हैं यही उपलब्धियाँ

आसमाँ की झोंपड़ी में एक बूढ़ा आफ़ताब
पढ़ रहा होगा अँधेरे की पुरानी चिठ्ठियाँ

फूल ने तितली से इक दिन बात की थी प्यार की
मालियों ने नोच दीं उस फूल की सब पत्तियाँ

मैं अँगूठी भेंट में जिस शख़्स को देने गया
उसके हाथों की सभी टूटी हुई थीं उँगलियाँ