भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाय दैया ! / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छुटकू मटक गए,
हाय दैया !

ज़िद्दी हैं पूरे,
रूठे तो रूठे,
गुस्से में सारे
खिलौने टूटे,
छुटकू मटक गए
हाय दैया !

देखो तो कैसी
मुसीबत आई,
जाने कहाँ से,
चवन्नी पाई,
छुटकू गटक गए
हाय दैया !

झाँक रहे थे
छत से घर में,
पैर जो फिसला,
बीच अधर में
छुटकू मटक गए,
हाय दैया !