भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हाशिये पर कुछ हक़ीक़त कुछ फ़साना ख़्वाब का / शाहिद माहुली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हाशिये[1] पर कुछ हक़ीक़त कुछ फ़साना ख़्वाब का
एक अधूरा-सा है ख़ाका[2] ज़िंदगी के बाब का

रंग सब धुँधला गए हैं सब लकीरें मिट गईं
अक़्स है बे-पैरहन[3] इस पैकर-ए-नायाब[4] का

ज़र्रा-ज़र्रा दश्त[5] का माँगे है अब भी खूँ-बहा[6]
मुँह छुपाये रो रहा है क़तरा क़तरा आब[7] का

सांप बन कर डस रही हैं सब तमन्नाएँ यहाँ
कारवाँ आकर कहाँ ठहरा दिल ए बेताब का

कोह-ए-तन्हाई[8] का शाहिद ज़र्रा-ज़र्रा टूटना
पारा-पारा हो गया है अब जिगर सीमाब का

शब्दार्थ
  1. पुस्तक के पन्ने के चारों ओर की लक़ीरें
  2. चित्र
  3. बिना वस्त्रों के
  4. दुर्लभ बिंब
  5. वन
  6. प्राणों का मूल्य
  7. पानी
  8. एकांत का पर्वत