भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हिकु दर्दु खणी दिल में कोई नाउं हुरे थो / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिकु दर्दु खणी दिल मंे कोई नाउं हुरे थो।
अॼु ज़हन में जज़्बात जो को ज़ख़म कुरे थो॥

हर रात रोए मुंहिंजी ऐं हर सुबहु थो सुॾिके।
दिल तड़फे, लुछे आस, सदा जीउ झुरे थो॥

अखिड़ियुनि जो सुकाइणु थो छॾे जिस्मु सुकाए।
जो लुड़िकु पियां थो सो मूं खां ख़ूनु घुरे थो॥

यादुनि जे गु़फ़ाउनि मां, मूं खे थो सॾे कोई।
का चोट थी उभिरे वरी को सूरु सुरे थो॥

हिकु हिकु थी वयूं दिल खां, तमन्ना न रही का।
पर दर्दु कमल जाइ तां पंहिंजे न चुरे थो॥