भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

हिप्पी जैसे बादल आए / सूर्यभानु गुप्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लंबे-लंबे बाल बढ़ाए,
हिप्पी जैसे बादल आए।

काले-काले, भूरे-भूरे,
कवियों से मनमौजी पूरे।
मोर पंख की गंजी पहने,
इंद्रधनुष की पैंट चढ़ाए।

साथ हवाओं के हो लेंगे,
कई-कई दिन पता न देंगे।
और मूड में कई-कई दिन,
बने रहेंगे झड़ी लगाए।

बिजली संग नाचे-झूमेंगे,
आसमान भर में घूमेंगे।
आँधी-पानी वाले झोले
हरदम कंधों से लटकाए।

-साभार: पराग, जुलाई, 1978, 4